ओडिशा के लक्षित क्षेत्रों में वृक्षारोपण में कमी

105

भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) के अनुसार ओडिशा के लक्षित क्षेत्रों में वृक्षारोपण में लगभग 50% की कमी आई है।

कैग की हालिया रिपोर्ट

कैग के अनुसार ओडिशा में सुलभ क्षेत्रों, जैसे कि मार्गों से सटी हुई भूमि में वृक्षारोपण गतिविधियों की सघनता, अनियोजित घने जंगल के बीच में अवक्रमित स्थानों को छोड़ना आदि वृक्षारोपण में गिरावट के प्रमुख कारणों में शामिल हैं।

राज्य में किये गए वृक्षारोपण से वन क्षेत्र में सुधार नहीं हुआ है। साथ ही, राज्य में निम्नीकृत भूमि पर कोई डाटा बेस भी उपलब्ध नहीं है।

कारण

वृक्षारोपण लक्ष्यों की प्राप्ति में तीव्र कमी।

बंज़र वन भूमि और रिक्त राजस्व भूमि के संबंध में डाटा अनुपलब्धता के कारण वृक्षारोपण की योजना प्रक्रिया का सीमित होना।

अवक्रमित वन और गैर-वन भूमि का डाटाबेस उपलब्ध न होने के कारण ‘प्रतिपूरक वनरोपण निधि प्रबंधन एवं योजना प्राधिकरण’ (Compensatory Afforestation Fund Management and Planning Authority : CAMPA) के तहत प्रतिपूरक वनरोपण कार्यक्रमों का लक्ष्य तीन वर्षों की निर्धारित अवधि के भीतर प्राप्त नहीं किया जाना।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण ऊर्जा गारंटी योजना के तहत किये गए वृक्षारोपण कार्यक्रमों का घने जंगल में वृक्षारोपण स्थलों के अनुचित चयन के कारण विफल रहना।