खय्याम

74

हाल ही में, रूस ने ईरान के उपग्रह ‘खय्याम’ को कक्षा में प्रक्षेपित किया।

प्रमुख बिंदु

रूस ने बैकोनूर लॉन्च केंद्र से सोयुज (Soyuz) रॉकेट के माध्यम से इस उपग्रह को प्रक्षेपित किया। रूस के अधीन यह केंद्र कज़ाकिस्तान में स्थित है। 

इस उपग्रह का नामकरण 11वीं-12वीं शताब्दी के फारसी वैज्ञानिक उमर खय्याम के नाम पर किया गया है।

ईरान के अनुसार उच्च-रिज़ॉल्यूशन कैमरे से लैस इस उपग्रह का उपयोग पर्यावरण निगरानी के लिये किया जाएगा और यह पूरी तरह से उसके नियंत्रण में रहेगा।

यह उपग्रह ईरान को इज़राइल और मध्य पूर्व के अन्य देशों की निगरानी करने की क्षमता प्रदान करेगा।

वैश्विक चिंताएँ

ईरान के अनुसार इस उपग्रह द्वारा एकत्र की गई जानकारी तक किसी अन्य देश की पहुंच नहीं होगी तथा इसका उपयोग केवल नागरिक उद्देश्यों के लिये किया जाएगा।

हालाँकि, यह आरोप लगाया जा रहा है कि रूस द्वारा इसका प्रयोग यूक्रेन की निगरानी करने एवं वहाँ सैन्य कार्रवाई के लिये किया जा सकता है।

ईरान द्वारा नागरिक और सैन्य दोनों प्रकार के अंतरिक्ष कार्यक्रम का संचालन किया जाता हैं, अत: अमेरिका को आशंका है कि वह इसका उपयोग अपने बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिये कर सकता है।