टमाटर फ्लू

40

हाल ही में, केरल में “टमाटर फ्लू” (Tomato flu) संक्रमण के मामलों का पता लगा है।

इस फ्लू का नाम “टमाटर फ्लू”, संक्रमण के दौरान पीड़ित व्यक्ति के शरीर पर ‘लाल रंग के छाले’ पड़ जाने के कारण पड़ा है।

यह फ्लू, पांच साल से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करता है।

इसके लक्षणों में शरीर पर चकत्ते पड़ना, त्वचा में जलन और पानी की कमी आदि शामिल हैं।

यह फ्लू ‘स्व-सीमित’ है और इसके लिए कोई विशिष्ट दवा नहीं है। इसका मतलब यह है कि यदि उपयुक्त देखभाल दी जाती है तो समय के साथ इस संक्रमण के लक्षण अपने आप ठीक हो जाएंगे।

फ्लू के अन्य मामलों की तरह, टमाटर फ्लू भी संक्रामक है। “अगर कोई इस फ्लू से संक्रमित होता है, तो उसे अलग-थलग रखने की जरूरत है क्योंकि यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैल सकता है।