परम अनंत सुपर कंप्यूटर

215

चर्चा में क्यों
हाल ही में, अत्याधुनिक सुपर कंप्यूटर परम अनंत को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) गांधीनगर, गुजरात में स्थापित किया गया है।


परम अनंत
राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (NSM) के तहत विकसित यह सुपर कंप्यूटर 838 टेराफ्लॉप्स की क्षमता के साथ कार्य करने में सक्षम हैं।
इसके विकास के लिये वर्ष 2020 में आई.आई.टी. गांधीनगर व सी-डैक के मध्य समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया।
यह सुपर कंप्यूटर कृत्रिम बुद्धिमत्ता , मशीन लर्निंग एवं डाटा विज्ञान, कंप्यूटेशनल फ्लुड डायनैमिक्स, जीनोम अनुक्रमण एवं डीएनए अध्ययन , बायो इंजीनियरिंग, कंप्यूटेशनल जीवविज्ञान एवं जैव सूचना विज्ञान, परमाणु एवं आणविक विज्ञान, नैनोटेक्नोलॉजी, रोबोटिक्स, एप्लॉयड गणित, खगोल विज्ञान एवं खगोल भौतिकी, सामग्री विज्ञान, क्वांटम यांत्रिकी आदि क्षेत्रों में सहायता करेगा।


राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन
मिशन का आरंभ: वर्ष 2015 में
मिशन का कार्यान्वयन एवं संचालन : इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग
मिशन का उद्देश्य: देश में सुपरकंप्यूटिंग बुनियादी ढाँचे का निर्माण करना ताकि शैक्षणिक समुदाय, अनुसंधानकर्ताओं, एम.एस.एम.ई. और स्टार्टअप्स की बढ़ती मांगों को पूरा किया जा सके
मिशन का लक्ष्य: वर्ष 2022 तक देश के राष्ट्रीय महत्व के शैक्षणिक और अनुसंधान संस्थानों में टेरा फ्लॉप्स और पेटा फ्लॉप्स सुपर कंप्यूटरों का एक नेटवर्क स्थापित करना
मिशन के तहत निर्मित प्रथम सुपर कंप्यूटर: ‘परम शिवाय’ (भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, वाराणसी में स्थापित)