भारत और फिलीपींस के मध्य ब्रह्मोस मिसाइलों का सौदा

71

हाल ही में, ब्रह्मोस एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड (बीएपीएल) ने फिलीपींस को तट आधारित एंटी-शिप मिसाइल प्रणाली की आपूर्ति को लेकर फिलीपींस गणराज्य के राष्ट्रीय रक्षा विभाग के साथ $374.96-मिलियन के सौदे पर हस्ताक्षर किए हैं।

यह भारत और रूस के संयुक्त उपक्रम ‘ब्रह्मोस मिसाइल’ के निर्यात का पहला ऑर्डर है।

ब्रह्मोस, भारत के रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) और रूस के NPO Mashinostroyeniyaका एक संयुक्त उद्यम है।

इसका नामकरण ब्रह्मपुत्र और मोस्कवा नदियों के नाम पर किया गया है।

यह मिसाइल जमीन, समुद्र, और हवा से सतह और समुद्र-स्थित लक्ष्यों के खिलाफ हमला करने में सक्षम है। और काफी लंबे समय से भारतीय सशस्त्र बलों के शस्त्रागार में शामिल है।

‘मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था’ के दायित्वों के अनुसार, मिसाइल की मारक क्षमता मूल रूप से 290 किमी तक सीमित थी। जून 2016 में क्लब में भारत के शामिल होने के बाद, इस सीमा को 450 किमी और बाद में 600 किमी तक बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है।