लिथियम खनन

110

संदर्भ:

सर्बिया में लोज़िंका शहर के समीप जादर घाटी में ‘रियो टिंटो’ (Rio Tinto) की लिथियम खदान परियोजना के विरोध में सर्बियाई नागरिक सड़कों पर उतर आये हैं तथा मुख्य सड़कों और पुलों को बंद करके यातायात को रोक रहे हैं।

खदान की क्षमता:

रॉयटर्स द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार, इस खदान से दस लाख इलेक्ट्रिक वाहनों को संचालित करने के लिए पर्याप्त लिथियम का उत्पादन करने तथा साथ ही भारी मात्रा में बोरिक एसिड और सोडियम सल्फेट का उत्पादन किया जा सकता है।

पूरी तरह से चालू होने पर, यह खदान हर साल “58,000 टन परिष्कृत बैटरी-ग्रेड लिथियम कार्बोनेट” उत्पादन कर सकती है, जिससे यह यूरोप की सबसे अधिक लिथियम-उत्पादक खदान बन जाएगी।

संबंधित चिंताएं:

दक्षिण-पूर्वी यूरोप में अवस्थित सर्बिया पहले से ही औद्योगिक प्रदूषण से ग्रस्त है, ऐसे में एक नई खदान चालू होने से इसकी स्थिति और खराब होगी, जिससे पूरे क्षेत्र में भूमि और पानी प्रदूषित हो जाएगा।

98 देशों की सूची में सर्बिया यूरोप का पांचवां और दुनिया का 32वां सबसे प्रदूषित देश है।

‘ग्लोबल एलायंस ऑन हेल्थ एंड पॉल्यूशन’ की 2019 की रिपोर्ट के अनुसार, सर्बिया प्रदूषण के कारण सबसे अधिक मौतों वाले शीर्ष दस देशों में से एक है – यहाँ प्रति 100,000 में 175 मौतें प्रदूषण की वजह से होती हैं।

लिथियम (Lithium) के बारे में:

यह एक नरम तथा चांदी के समान सफेद धातु होती है तथा मानक परिस्थितियों में, यह सबसे हल्की धातु और सबसे हल्का ठोस तत्व है।

यह अत्यधिक प्रतिक्रियाशील और ज्वलनशील होती है अत: इसे खनिज तेल में संगृहित किया जाना चाहिये।

यह एक क्षारीय एवं दुर्लभ धातु है।

प्रमुख विशेषताएं एवं गुण:

इसमें किसी भी ठोस तत्व की तुलना में उच्चतम विशिष्ट ऊष्मा क्षमता होती है।

लिथियम का सिंगल बैलेंस इलेक्ट्रॉन इसे विद्युत् का अच्छा संवाहक बनाता है।

यह ज्वलनशील होता है तथा हवा एवं पानी के संपर्क में आने पर विस्फोटित भी हो सकता है।

उपयोग:

लिथियम, नई प्रौद्योगिकियों के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व है और इसका उपयोग सिरेमिक, शीशा, दूरसंचार और अंतरिक्ष संबंधी उद्योगों में किया जाता है।

लिथियम का सर्वाधिक उपयोग मुख्य रूप से, लिथियम आयन बैटरी निर्माण में, लूब्रिकैटिंग ग्रीस, एल्युमिनियम के साथ विमान के पुर्जे बनाने में, रॉकेट प्रणोदकों के लिए उच्च ऊर्जा योजक, मोबाइल फोन के लिए ऑप्टिकल मॉड्यूलेटर तथा थर्मोन्यूक्लियर अभिक्रियाओं में किया जाता है।