सोवा-रिग्पा (Sowa-Rigpa)

148

यह भारत के हिमालयी क्षेत्र में प्रचलित एक पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली है।

इसकी उत्पत्ति तिब्बत में हुई और भारत, नेपाल, भूटान, मंगोलिया और रूस जैसे देशों में लोकप्रिय रूप से प्रचलित है।

सोवा-रिग्पा के अधिकांश सिद्धांत और व्यवहार “आयुर्वेद” के समान है।

तिब्बत के ‘युथोग योंटेन गोंपो’ (Yuthog Yonten Gonpo) को ‘सोवा रिग्पा’ का जनक माना जाता है।

सोवा-रिग्पा के मूल सिद्धांत को निम्नलिखित पांच बिंदुओं के संदर्भ में समझा जा सकता है:

बीमारी की स्थिति में शरीर को उपचार के केंद्र के रूप में

एंटीडोट यानी इलाज

एंटीडोट के माध्यम से उपचार की विधि

रोग को ठीक करने वाली औषधि

मटेरिया मेडिका, फार्मेसी और फार्माकोलॉजी