C3, C4 और CAM पौधे

200

C3 चक्र:
इसे केल्विन चक्र के नाम से भी जाना जाता है।
यह प्रकाश संश्लेषण के अँधेरे चरण में होने वाली एक चक्रीय प्रतिक्रिया है।
इस अभिक्रिया में CO शर्करा में परिवर्तित हो जाती है और इसलिये यह कार्बन स्थिरीकरण की प्रक्रिया है।
केल्विन चक्र पहली बार मेल्विन केल्विन द्वारा क्लोरेला एककोशिकीय हरे शैवाल में देखा गया था। इस काम के लिये केल्विन को वर्ष 1961 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
चूँकि केल्विन चक्र में पहला स्थिर यौगिक 3 कार्बन यौगिक (3 फॉस्फोग्लिसरिक एसिड) है, चक्र को C3 चक्र भी कहा जाता है।
C3 पौधे के उदाहरण: गेहूँ, जई, चावल, सूरजमुखी, कपास आदि।


C4 पौधे:
C4 पौधे एक अलग प्रकार की पत्ती की संरचना दिखाते हैं।
क्लोरोप्लास्ट प्रकृति में द्विरूपी होते हैं। इन पौधों की पत्तियों में संवहनी बंडल बड़े पैरेन्काइमेटस कोशिकाओं के बंडल म्यान से घिरे होते हैं।
इन बंडल म्यान कोशिकाओं में क्लोरोप्लास्ट होते हैं।
बंडल म्यान के ये क्लोरोप्लास्ट बड़े होते हैं, इनमें ग्रेन की कमी होती है और स्टार्च के दाने होते हैं।
मेसोफिल कोशिकाओं में क्लोरोप्लास्ट छोटे होते हैं और उनमें हमेशा ग्रेना होता है। C4 पौधों की पत्तियों की इस अजीबोगरीब शारीरिक रचना को क्रांज एनाटॉमी कहा जाता है।
C4 पौधों के उदाहरण: मक्का, गन्ना, ऐमारैंथस।


CAM चक्र:
CAM एक चक्रीय प्रतिक्रिया है जो क्रसुलासी के पौधों में प्रकाश संश्लेषण के अँधेरे चरण में होती है।
यह एक CO2 निर्धारण प्रक्रिया है जिसमें प्रांभिक उत्पाद मैलिक अम्ल होता है।
यह मेसोफिल कोशिकाओं में होने वाले केल्विन चक्र का तीसरा वैकल्पिक मार्ग है।
CAM के पौधे आमतौर पर रसीले होते हैं और वे अत्यंत प्रतिकूल परिस्थितियों में विकसित होते हैं। इन पौधों में पत्तियाँ रसीली या मांसल होती हैं।
इन पौधों में रात के समय रंध्र खुले रहते हैं और दिन के समय बंद रहते हैं।
CAM के पौधे प्रकाश-संश्लेषण के लिये अनुकूल होते हैं और प्रतिकूल परिस्थितियों में जीवित रहते हैं।
उदाहरण: सेडम, कलंचो, अनानस, ओपंटिया, सांप का पौधा।