CHIRU 2Q22 नौसेना अभ्यास 

104

CHIRU हाल ही में ओमान की खाड़ी में चीन, रूस और ईरान द्वारा आयोजित एक नौसैनिक अभ्यास है। चीन ने इस अभ्यास में भाग लेने के लिए मिसाइल डिस्ट्रॉयर उरुमकी को भेजा। यह देश अब अपने सैन्य सहयोग को गहरा करने के अवसरों की तलाश कर रहे हैं। रूस ने इस अभ्यास में भाग लेने के लिए अपनी प्रशांत बेड़े की टास्क फोर्स भेजी। इसमें पनडुब्बी रोधी युद्धपोत एडमिरल ट्रिब्यूट्स और नखिमोव मिसाइल क्रूजर शामिल हैं।

CHIRU

देशों ने समुद्री लक्ष्यों के खिलाफ अभ्यास का आयोजन किया। इसके अलावा, उन्होंने सामरिक युद्धाभ्यास में भाग लिया। इस अभ्यास के दौरान देशों ने समुद्री डकैती रोधी अभ्यास भी किए।

रूस

रूसी सरकार ने पहले घोषणा की थी कि वह अपनी जिम्मेदारी के सभी क्षेत्रों सहित दुनिया के विभिन्न हिस्सों में अभ्यास करेगी। रूस ने यह भी घोषणा की थी कि वह भूमध्य सागर, प्रशांत महासागर, अटलांटिक महासागर और ओखोटस्क समुद्र में सैन्य अभ्यास करेगा। ऐसे अभ्यासों में भाग लेने के लिए 60 से अधिक विमान और 140 युद्धपोत तैयार रखे गए हैं।

रूस और बेलारूस

यूक्रेन तनाव के बीच रूस पहले ही बेलारूस के साथ नौसैनिक अभ्यास कर चुका है। यूक्रेन के मुद्दे पर रूस अमेरिका के साथ भी बातचीत कर रहा है। 

अभ्यास में चीन

उरुक्मी एक चीनी मिसाइल डिस्ट्रॉयर है। उसे 2018 में कमीशन किया गया था। उरुक्मी टाइप 052D विध्वंसक है। यह कनस्तर प्रकार के लंबवत लॉन्चिंग सिस्टम का उपयोग करता है। यह संयुक्त डीजल या गैस प्रणोदन का उपयोग करता है। इसे हेलीकॉप्टर ले जाने के लिए बनाया गया है। इसमें एक्टिव इलेक्ट्रॉनिकली स्कैन्ड एरे रडार है। उरुक्मी के अलावा, चीन ने अपना आपूर्ति जहाज ताइहू, चालीस मरीन और जहाज से ऑपरेट होने वाले हेलीकॉप्टर भी भेजे।

अभ्यास में रूस

रूस के वैराग ने अभ्यास में भाग लिया। वैराग एक मिसाइल क्रूजर है। यह गाइडेड मिसाइल क्रूजर का एक स्लाव वर्ग है। यह सोवियत संघ द्वारा डिजाइन और निर्मित किया गया था। यह एक जहाज रोधी रॉकेट क्रूजर है।