थाईलैंड में मारिजुआना वैध

145

चर्चा में क्यों

थाईलैंड, मारिजुआना को चिकित्सा उपयोग के लिये गैर-अपराध घोषित करने वाला पहला एशियाई देश बन गया है। विदित है कि सार्वजनिक रूप से धूम्रपान करना अभी भी कानूनी रूप से अवैध है।

प्रमुख बिंदु

यह कैनबिस सैटिवा (Cannabis sativa) के सूखे फूलों का हरा-भूरा मिश्रण होता है। इसे भांग या गांजा आदि नामों से भी जाना जाता है।
मारिजुआना में मुख्यतः ‘डेल्टा-9 टेट्राहाइड्रो कैनाबिनोल’ (THC) रसायन पाया जाता है। यह रसायन मुख्य रूप से मादा भांग के पौधे की पत्तियों और कलियों द्वारा उत्पादित राल (Resin) में पाया जाता है।
जब मारिजुआना धूम्रपान किया जाता है तो टी.एच.सी. एवं अन्य रसायन फेफड़ों से रक्तप्रवाह में चले जाते हैं, जो तेजी से उन्हें पूरे शरीर व मस्तिष्क तक ले जाता है।
वैश्विक स्तर पर उरुग्वे और कनाडा दो ऐसे देश हैं जो मारिजुआना के मनोरंजक उपयोग को वैधता प्रदान करते हैं।