संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के नए अस्थायी सदस्य

146

चर्चा में क्यों

हाल ही में, वर्ष 2023-2024 की अवधि के लिये संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् (UNSC) के पाँच नए अस्थाई सदस्यों की घोषणा की गई है।

प्रमुख बिंदु

नए अस्थाई सदस्यों में इक्वाडोर, जापान, माल्टा, मोजाम्बिक एवं स्विटजरलैंड शामिल है।
ये देश भारत, आयरलैंड, केन्या, मैक्सिको और नॉर्वे का स्थान लेंगे। विदित है कि इन देशों की अस्थाई सदस्यता 1 जनवरी, 2023 को समाप्त हो रही है।
स्विट्जरलैंड और माल्टा पश्चिमी यूरोप क्षेत्र, मोज़ाम्बिक और जापान क्रमशः अफ्रीका और एशिया-प्रशांत क्षेत्र तथा इक्वाडोर लैटिन अमेरिकी एवं कैरेबियाई महाद्वीप में स्थित है।
गौरतलब है कि पाँच अन्य अस्थायी सदस्य अल्बानिया, ब्राजील, गैबॉन, घाना और यू.ए.ई. है, जिनकी सदस्यता 1 जनवरी, 2024 तक रहेगी। जबकि सुरक्षा परिषद् के पाँच स्थायी सदस्य चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका है।
चुनाव प्रक्रिया

सुरक्षा परिषद् के सदस्यों में 15 देश शामिल हैं, जिनमें से स्थायी सदस्यों को वीटो का अधिकार प्राप्त हैं।
संयुक्त राष्ट्र महासभा में संयुक्त राष्ट्र के सभी 193 सदस्य देश शामिल होते हैं, जो दो वर्ष के कार्यकाल के लिये 10 अस्थायी सदस्यों का चुनाव करते हैं।
परिषद् में सदस्यता प्राप्त करने के लिये देशों को दो-तिहाई बहुमत या 128 वोट प्राप्त करना आवश्यक होता है, भले ही वे निर्विरोध ही क्यों न हो।